Rakesh Tikait Biography, Father, Brother, Caste, History, Education, Net Worth, Latest News

Kisaan Neta Rakesh Tikait and BKU Spokesperson

राकेश टिकैत किसान यूनियन, भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता हैं। वह महेंद्र सिंह टिकैत के दूसरे बेटे हैं, जो BKUके अध्यक्ष थे। चौधरी राकेश टिकैत BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता भी हैं। इन दिनों राकेश टिकैत सुर्खियों में हैं क्योंकि वह दिल्ली किसान अंदोलन में गाजीपुर बॉर्डर से किसानों का नेतृत्व कर रहे हैं। वह सरकार के खिलाफ कृषि के 3 कानूनों का विरोध कर रहे हैं, जिसे वे काला कानून कहते हैं।

Rakesh Tikait
Rakesh Tikait

Read everything about Rakesh tikait, Biography in Hindi, Father, Family, Brother, Caste, Education, Net worth,(राकेश टिकैत के जीवन के बारे में सम्पूर्ण जानकारी)

Chaudhary Rakesh Tikait Biography in Hindi

राकेश टिकैत फिलहाल किसानों के उस कोर ग्रुप में शामिल हैं जो कृषि संशोधन बिल पर लगातार सरकार से बात कर रही है. बीती शाम अमित शाह से मुलाकात करने वाले किसानों में भी राकेश टिकैत शामिल थे और सभी पिछले पांच दौर की वार्ताओं में भारतीय किसान यूनियन का प्रतिनिधित्व राकेश टिकैत ही कर रहे थे.

We have also activated links to Rakesh Tikait Facebook, Twitter, and Wikipedia Page. So that you can easily follow him. Just continue reading and scroll down till the end of this page.

हमने राकेश टिकैत के फेसबुक, ट्विटर और विकिपीडिया पेज के लिंक भी सक्रिय कर दिए हैं। ताकि आप आसानी से उसका अनुसरण कर सकें। बस पढ़ना जारी रखें और इस पृष्ठ के अंत तक स्क्रॉल करें।

Rakesh Tikait Age, Father, Brother, Family

राकेश टिकैत का जन्म 04 जून 1969 को भारत के उत्तर प्रदेश के मुज़फ्फरनगर के गाँव सिसौली में हुआ था। 2021 के रूप में उनकी उम्र 52 वर्ष है। राकेश टिकैत राजनीतिक दल राष्ट्रीय जनता दल यानी RJD के नेता भी हैं।

Mahendra Singh Tikait, father of Rakesh Tikait
Mahendra Singh Tikait, father of Rakesh Tikait

Rakesh Tikai Father and brothers: राकेश टिकैत के पिता BKU के अध्यक्ष रहे दिवंगत महेंद्र सिंह टिकैत हैं। 15 मई 2011 को लंबी बीमारी के चलते महेंद्र सिंह टिकैत के निधन हो गया था। राकेश टिकैत का परिवार बालियान खाप से है, जिसका नियम है कि पिता की मौत के बाद परिवार का मुखिया घर का बड़ा होता है। इसीलिए राकेश के बड़े भाई नरेश टिकैत को BKU का अध्यक्ष बनाया गया और राकेश टिकैत बीकेयू के राष्ट्रीय प्रवक्ता हैं। इसके अलावा राकेश टिकैत के दो छोटे भाई हैं – सुरेंद्र टिकैत जो कि मेरठ के एक शुगर मिल में मैनेजर के तौर पर कार्यरत हैं और सबसे छोटे भाई नरेंद्र टिकैत खेती का काम करते हैं।

Rakesh Tikait Family, Wife, Son, Daughters: किसान नेता राकेश टिकैत की शादी 1985 में बागपत के दादरी गांव की सुनीता देवी से हुई थी। राकेश टिकैत का एक बेटा है जिसका नाम चरण सिंह (National President of BKU Youth Wing) है। उनकी दो बेटियां हैं – सीमा और ज्योति। इनके सभी बच्चों की शादी हो चुकी है।

Rakesh Tikait Caste, Village, hometown, Education, Net Worth

किसान आंदोलन के नेता राकेश टिकैत की Caste के बारे में कई लोग जानना चाहते हैं। आपको बता दें की राकेश टिकैत जाट समुदाय से संबंध रखते हैं। वह उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में RJD नेता भी रह चुके हैं। उनका गाँव सिसौली है, जो कि मुजफ्फरनगर, उत्तर प्रदेश में है।

Kisaan Neta Rakesh Tikait and BKU Spokesperson
Kisaan Neta Rakesh Tikait and BKU Spokesperson

Rakesh Tikait Net Worth: INR 4 Crore (Approx)

Rakesh Tikait Education: राकेश टिकैत ने अपनी स्कूली शिक्षा सर ताशी नामग्याल हाई स्कूल से की और स्नातक की पढ़ाई उत्तर प्रदेश से की। राकेश ने मेरठ यूनिवर्सिटी से एमए किया। उन्होंने LLB की पढाई भी की है। पढाई के बाद उन्हें पुलिस की नौकरी मिली। राकेश वर्ष 1985 में दिल्ली पुलिस में SI यानी कि सब इंस्पेक्टर के तौर पर भर्ती हुए थे।

Rakesh Tikait History

राकेश और उनके सदस्यों द्वारा वंशानुगत शीर्षक “टिकैत”, 7 वीं शताब्दी में थानेसर के जाट शासक राजा हर्षवर्धन द्वारा बलियान खाप के प्रमुख को प्रदान किया गया था। तब से, यह बालियान खाप के प्रत्येक प्रमुख और उसके पुरुष परिवार के सदस्यों को सम्मानित किया जा रहा है।

BKU i.e. भारतीय किसान यूनियन की नींव 1987 में रखी गई थी। उस समय बिजली के दाम को लेकर किसानों ने शामली जनपद के करमुखेड़ी में एक बड़ा आंदोलन किया था, जिसका नेतृत्व महेंद्र सिंह टिकैत ने किया। उस आंदोलन में दो किसान जयपाल और अकबर पुलिस की गोली लगने से मारे गए थे।

एक बार किसानों ने दिल्ली के लाल किले पर डंकल प्रस्ताव आंदोलन चलाया, जिसकी अगुवाई राकेश टिकैत के पिता महेंद्र टिकैत कर रहे थे। उस समय राकेश टिकैत दिल्ली पुलिस में बतौर SI कार्यरत थे। ऐसे में सरकार उन पर दबाव डालने लगी कि वे अपने पिता को समझाएं और आंदोलन को खत्म कराएं। लेकिन राकेश टिकैत ने उनके दबाव में ना आने की बजाए अपने पिता महेंद्र टिकैत का साथ दिया और अपनी सरकारी नौकरी छोड़ दी। 1993 में राकेश टिकैत ने पुलिस की नौकरी से इस्तीफा दे दिया और उसके बाद से इन्होंने किसानों के हिलिए सक्रिय काम करते हुए अपने पिता के साथ काम करना शुरू किया।

इसी दौरान उनके पिता महेंद्र टिकैत द्वारा दिल्ली के लाल किले पर डंकल प्रस्ताव हेतु आंदोलन चलाया गया था, जिसमें सरकार द्वारा राकेश टिकैत के ऊपर दबाव डाला जा रहा था कि वह अपने पिता को समझाएं और आंदोलन को खत्म कराएं. सरकार द्वारा राकेश के ऊपर दबाव बनाने के कारण 1993 में राकेश टिकैत ने पुलिस की नौकरी से इस्तीफा दे दिया और उसके बाद से इन्होंने किसानों के लिए सक्रिय काम करते हुए अपने पिता के साथ काम करना शुरू किया और 1997 में भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता बनाए गए।

Rakesh Tikait About, BKU, Election, Arrest

Rakesh Tikait Elections: राकेश टिकैत ने किसान यूनियन के जरिए राजनीति में आने की भी कोशिश की, लेकिन उन्हें कोई बड़ी कामयाबी नहीं मिली। उन्होंने 2007 में मुजफ्फरनगर की खतौली विधानसभा सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ा और हार गए।

दूसरी बार उन्होंने 2014 में अमरोहा से राष्ट्रीय लोक दल पार्टी की तरफ से लोकसभा चुनाव लड़ा और दूसरी बार भी चुनाव हार गए।

राकेश टिकैत कब-कब जेल गए: 26 जनवरी 2021 को किसान आंदोलन में हुई हिंसा के लिए दिल्ली पुलिस ने उनपर दोष डाला है और गिरफ्तार होने के लिए कहा है। लेकिन उन्होंने साफ-साफ़ मना कर दिया है कि झूठे आरोपों में गिरफ्तारी नहीं दी जाएगी।

राकेश टिकैत किसानों के हित के लिए कभी जेल जाने से नहीं डरे। इससे पहले भी वे किसानों की लड़ाई लड़ते रहने के कारण राकेश टिकैत 44 बार जेल की यात्रा कर चुके हैं।

एक बार मध्यप्रदेश में किसान के भूमि अधिकरण कानून के खिलाफ बोलने के कारण उन्होंने 39 दिन जेल में बिताए।

उसके बाद दिल्ली में लोकसभा के बाहर किसानों के गन्ना मूल्य बढ़ाने हेतु सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया,और गन्ना को जला दिया था। उस वक़्त भी राकेश टिकैत को तिहाड़ जेल भेज दिया गया था।

एक बार राजस्थान में राकेश टिकैत ने किसानों के हित में बाजरे के मूल्य बढ़ाने के लिए सरकार से मांग की थी, सरकार द्वारा मांग न मानने पर टिकैत ने सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया था, जिस वजह से उन्हें जयपुर जेल में जाना पड़ा था। हालंकि बाद में सरकार बाजरे के दाम बढ़ाने को मान गयी थी।

Rakesh Tikait Videos, Interview

26 जनवरी 2021 की घटना के बाद राकेश टिकैत का इंटरव्यू

Rakesh Tikait Contact Details and Social Media Links

Rakesh Tikait TwitterClick Here
Bhartiya Kisaan Union i.e. BKU TwitterClick Here
Rakesh Tikait FacebookClick Here
Rakesh Tikait WikipediaClick Here

आपको किसान नेता और BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत के बारे में हमारे द्वारा दी गयी जानकारी कैसी लगी, हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

Rakesh Tikait Kaun Hain?

राकेश टिकैत किसान यूनियन, भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता हैं। वह महेंद्र सिंह टिकैत के दूसरे बेटे हैं, जो BKUके अध्यक्ष थे। चौधरी राकेश टिकैत BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता भी हैं। इन दिनों राकेश टिकैत सुर्खियों में हैं क्योंकि वह दिल्ली किसान अंदोलन में गाजीपुर बॉर्डर से किसानों का नेतृत्व कर रहे हैं। वह सरकार के खिलाफ कृषि के 3 कानूनों का विरोध कर रहे हैं, जिसे वे काला कानून कहते हैं।

Who is Rakesh Tikait’s Father?

Rakesh Tikait’s Father is Late Mahendra Singh Tikait, who was also a farmer’s leader. He was the president of Bhartiya Kisaan Union i.e. BKU.

Author:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *